California
broken clouds
19.1 ° C
20.1 °
17.6 °
67 %
1.3kmh
75 %
Tue
19 °
Wed
18 °
Thu
17 °
Fri
18 °
Sat
17 °
California
broken clouds
19.1 ° C
20.1 °
17.6 °
67 %
1.3kmh
75 %
Tue
19 °
Wed
18 °
Thu
17 °
Fri
18 °
Sat
17 °
Tuesday, October 26, 2021

The old rate of fertilizer is also over, the price of one thousand seven hundred in cooperatives, today the new rate is likely to be 1490 | पुराने रेट की खाद भी खत्म, सहकारी समितियों में एक हजार सात सौ का भाव, आज नई दर 1490 होने की संभावना


  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • The Old Rate Of Fertilizer Is Also Over, The Price Of One Thousand Seven Hundred In Cooperatives, Today The New Rate Is Likely To Be 1490

उज्जैन18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
सोयाबीन बेचने आए किसान एनपीके के लिए परेशान हो रहे हैं। - Dainik Bhaskar

सोयाबीन बेचने आए किसान एनपीके के लिए परेशान हो रहे हैं।

उज्जैन जिले में किसानों को एनपीके (सोडियम, पोटेशियम और सल्फर यानी 12:32:16) खाद की कमी बनी हुई है। जो किसान सोयाबीन काट चुके हैं और आलू, लहसुन बोना चाहते हैं, उन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरुरत है।

किसानों के सामने समस्या ये है कि सहकारी साख संस्थाओं में उपलब्ध तो है लेकिन एक बोरी (50 किग्रा) का दाम बढ़ाकर 1700 रुपए कर दिया गया है। यही नहीं सहकारी साख समितियों में बिक्री पर भी नई कीमत तय होने तक रोक लगा दी है।

पिछले साल यही बोरी 1185 रुपए में मिल रही थी। सोयाबीन बेचने आए किसान कृषि उपज मंडी से एमपी एग्रो और इफको जैसी निजी कंपनियों की एनपीके (12:32:16) खरीद रहे थे, जो उन्हें पुरानी दरों पर 1185 रुपए में मिल रही थी, लेकिन अब मंडी में भी ये खाद खत्म हो चुकी है। विक्रेताओं का कहना है कि इसकी एक्सपायरी डेट नजदीक आने के कारण माल जल्दी ही खत्म हो गया। इसे ज्यादा समय तक स्टोर नहीं कर सकते, इसलिए व्यापारियों ने पुरानी दरों पर किसानों को बेच दी।

इधर, प्राथमिक कृषि साख सहकारी संस्था (सोसायटी) में एनपीके (12:32:16) उपलब्ध तो है लेकिन वहां के दाम 1700 रुपए प्रति बोरी होने के कारण किसान खरीदने से बच रहे हैं।

इधर सूत्रों का कहना है कि सहकारी साख समितियों के पास उपलब्ध खाद के लिए सरकार की ओर से आज नए दाम तय किए जा सकते हैं। इस वजह से भी किसान एनपीके खरीदने से फिलहाल बच रहे हैं। बताया जा रहा है कि कृभको की एनपीके के नए रेट 1490 रुपए प्रति बोरी हो सकते हैं। यानी सरकार प्रति बोरी (50 किग्रा) के दर 210 रुपए तक कम कर सकती है।

यूरिया और डीएपी की कमी नहीं –
जिले में यूरिया और डीएपी की फिलहाल कमी नहीं है। क्योंकि अभी इसकी आवश्यकता नहीं पड़ रही है। दोनों ही खाद गेहूं व चने में काम आती है। इसलिए किसान इसे अभी खरीदने से बच रहे हैं।

पर्याप्त एनपीके उपलब्ध है उज्जैन में –

उज्जैन को रबी की फसलों के लिए 9 हजार टन की जरुरत होती है। अभी हमारे पास 6.5 टन उपलब्ध है। चूंकि एक या दो दिन में नई रिवाइज दरें आने वाली हैं, इसलिए किसान खरीदने से बच रहे हैं। विवेक तिवारी, जिला प्रबंधक, मप्र राज्य सहकारी विपणन संघ मर्यादित उज्जैन

खबरें और भी हैं…

Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here